innerfeeling

Just another weblog

64 Posts

118 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15166 postid : 721485

शहीदी दिवस पर एक शिकायत एक गुजारिश

Posted On: 23 Mar, 2014 Others,कविता,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश कि आजादी में
जिन्होंने अहम भूमिका थी निभाई
अपनी जान गवां कर
लाखों दिलों में आजादी कि अलख थी जगाई

आजादी कि लहर में बढ़चढ़ कर था हिस्सा लिया
इंकलाब ज़िंदाबाद का था नारा दिया
ना गम न कोई शिकवा किया
हँसते हँसते देश कि खातिर खुद को था कुर्वान किया

ऐसे वीर जिनसे विदेशी हकूमत थी थरथराने लगी
मिटा दिया जाए कैसे इन्हे
ऐसे जोड़ तोड़ थे लगाने लगी

ऐसे क्रन्तिकारी तरस रहे है
शहीद कहलाने को
आज भी कागजों में शहादत पाने को
भूल गये हम आजादी के उन दिवानो को

भूल गये उन वीरों को
किताबी किस्से बन कर रह गये वो
सियासती मुद्दे बन कर रह गये वो

उठो देश के जवानो
याद करो उन वीरों को
जिनकी शहादत से ही
खुली हवा में सांस ले रहे हम
आजादी से आजादी कि ज़िंदगी जी रहे हम
याद करो आजादी के उन दिवानो को

तुम वीरों से भी मेरी गुजारिश
ए क्रन्तिकारी वीरों आज फिर तुम जी उठो
फिर से है भारत माँ को जरूरत तुम्हारी
गुलाम नही भारत माँ अब फिरंगिओं की
गुलाम बन बैठी माँ
भ्रष्टाचार ,महंगाई और कालाबजारी की
भारत माँ की यह लाचारी
अपनी ही औलाद से है भारत माँ हारी
अब तुम ही इस देश को बचा सकते हो
भारत माँ के इस दर्द को अब तुम ही मिटा सकते हो
मर गया है जो ज़मीर लोगो का
फिर से तुम ही उसे जगा सकते हो
सोई इंसानियत को तुम ही जगा सकते हो
आ जाओ वीरों नयी क्रांति लाने को
देश को कपूतों से आजाद करवाने को

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

bhanuprakashsharma के द्वारा
April 27, 2014

सुंदर रचना, बधाई।

ADVOCATE VISHAL PANDIT के द्वारा
March 28, 2014

ख़ूबसूरत रचना…………… बधाई

    Ritu Gupta के द्वारा
    March 29, 2014

    Dhanyabaad vishal ji

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
March 27, 2014

गुलाम नहीं भारत माँ अब फिरंगियों की ,गुलाम है भ्रष्टाचार,महगाई और कालाबाजारी की ,सच कहा, देश प्रेम की भावना हर शब्द में गुंथी हुई है रितुजी ,उम्दा रचना ,सादर बधाई .

    Ritu Gupta के द्वारा
    March 28, 2014

    हौसलाअफजाई के लिए शुक्रिया निर्मलाजी

Ritu Gupta के द्वारा
March 24, 2014

जी परवीन जी आप बिलकुल ठीक कह रहे हो आज मैं ,आप बल्कि हम सब आजादी के उन महारथिओं को भूल गये है |परवीन जी सच्च में हमे उनको सिर्फ शहीदी दिवस पर नहीं बल्कि हर रोज सम्मान देना चाहिए और उनके द्वारा देखे स्वपन ‘स्वराज’को मिलजुल कर पूरा करना चाहिए |

ANAND PRAVIN के द्वारा
March 24, 2014

http://anandpravin.jagranjunction.com/2014/03/24/%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4-%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A4%82%E0%A4%9A-%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%B2%E0%A5%89%E0%A4%97%E0%A4%B0-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9A-2/ आपभी शामिल हों इस महामेला में………..सादर आपत्ति होने पर कृपया कमेन्ट डिलीट कर दें……

    Ritu Gupta के द्वारा
    March 24, 2014

    जी परवीन जी आप बिलकुल ठीक कह रहे हो आज मैं ,आप बल्कि हम सब आजादी के उन महारथिओं को भूल गये है |परवीन जी सच्च में हमे उनको सिर्फ शहीदी दिवस पर नहीं बल्कि हर रोज सम्मान देना चाहिए और उनके द्वारा देखे स्वपन ‘स्वराज’को मिलजुल कर पूरा करना चाहिए |


topic of the week



latest from jagran